Pragatisheel Kavyadhara Aur Trilochan / प्रगतिशील काव्यधारा और त्रिलोचन
Author
: Hariniwas Pandey
Language
: Hindi
Book Type
: Reference Book
Category
: Hindi Literary Criticism / History / Essays
Publication Year
: 2000
ISBN
: 8171242588
Binding Type
: Hard Bound
Bibliography
: viii + 152 Pages, Biblio., Size : Demy i.e. 22 x 14.5 Cm.

MRP ₹ 150

Discount 20%

Offer Price ₹ 120

आधुनिक हिन्दी कविता की कोई भी चर्चा त्रिलोचन के बिना अधूरी रहेगी। उनके काव्य में 'प्रयोग धॢमताÓ के साथ-साथ 'खॉटीपनÓ का जो सम्मिश्रण मिलता है, वह उन्हें एक 'विशिष्टïताÓ प्रदान करता है। त्रिलोचन पर लेख और पत्रिकाओं के विशेषांक तो निकले हैं लेकिन समग्र रूप से उनके काव्य का मूल्यांकन सम्भवत: पहली बार प्रस्तुत ग्रन्थ में हुआ है। लेखक ने गहराई में उतरकर त्रिलोचन की रचना प्रक्रिया के साथ-साथ उनके काव्य की मूल भावधारा की पड़ताल की है।